Wednesday, 13 February 2013

My Solitude

My Solitude


में तो एक ज़र्रा हु इस दुनिया की भीड़ में ..

एक बूँद प्यार की तलाश में ..

अंजानो का मेल ह पर आपना कोई भी नहीं इस दुनिया की भीड़ में ..

इस सेहेर्रा में तलाशते उस एक खलुष के जज़बेये को...

इस ज़र्रे को कोई जरा पहेचान तो ले इस दुनिया की भीड़ में ...

खालुसे इश्क मिलु तो आफ़ताब बनू इस दुनिया की भीड़ में...

एक नज़र तो ऐसे हो इस दुनिया की भीड़ में

...दीप...

0 comments: