Friday, 4 April 2014

Amazing..full of emotions lyrics..with equally amazing music...Music: Khayyam; Lyricist: Naqsh Lyallpuri


माना तेरी नज़र में तेरा प्यार हम नहीं
कैसे कहे के तेरे तलबगार हम नहीं

तन को जला के राख बनाया, बिछा दिया
लो अब तुम्हारी राह में दीवार हम नहीं

जिस को निखारा हम ने तमन्ना के खून से
गुलशन में उस बहार के हकदार हम नहीं

धोखा दिया हैं खुद को मोहब्बत के नाम पर
ये किस तरह कहे के गुनहगार हम नहीं


0 comments: