Saturday, 13 May 2017

जज़्बात...



सब भूल जाती हूँ तेरी फिक्र में खुद भी भूल तो..,
नहीं जताती फिर तुझको ए बेख़बर...!

दूर होने लगती हूँ.., जिस पल तुझ से...,
याद तेरी बहुत...,उस पल कसम से आती हमे...!


जो पूछे कभी है...,तुम्हे हमसे मोहब्ब
​​
त कितनी...,
नज़रें चुरा के.., बात बात बनते क्यों हो...!

भुलाए बैठे है...,हम खुद को तेरी मोहब्बत में...,
और तुम ना जाने क्यों...जज़्बात छुपाते हो...!!!

दीप 

0 comments: