Friday, 19 April 2013

ज़िन्दगी...

ज़िन्दगी...


ज़िन्दगी आज जाने क्यों तू लगती है अजनबी  सी कभी है घन्नी छाव ..कभी है घन्नी धुप सी ,


हर पल एक नया ही रंग है लगे है पल अनजानी सी जाने कहाँ से आई हू  जाने कौन हू आज ज़िन्दगी तू लगती है अजनबी सी ,


तू ही बता में कौन हू ..यह क्यों हर तरह है अंधरे ..क्यों डर लग रहा क्यों मेरे उजाले कही खो गए  क्यों आज काँटों से यह मंजर भरा भरा ,


कल जहाँ थी बहार ही बहार  क्यों आज एक उदासी है छाई  सी क्यों हर तरफ है मंजर मताम का  क्यों हर आँख में नमी सी है ,


क्यों हर जुबां पर एक सवाल है ...क्यों हर दिल का एक ही ख्याल है कहाँ खो गयी वो रंगिनिया  कहाँ खो गया वो आपनापन ,


कोई तो यह बताए दोस्तों  क्यों आज यह इंसानियत रोती  है  क्यों हर आँख  में चुप एक मोती है

ज़िन्दगी  ज़िन्दगी तू ही बता यह आज क्या हो गया  ज़िन्दगी आज जाने क्यों तू लगती है अजनबी सी !! 

दीप 

   

0 comments: