Friday, 29 May 2015

उनसे कहना...


बिखर गई मेरी ज़ात उनसे कहना...,
कभी मिले जो वो तो ये बात उनसे कहना...!

जो था वो हमसफ़र, तो हर सफर था मेरा...,
पर अब नहीं कोई साथ मेरे उनसे कहना...!

उनसे कहना के बिन उनके ये जिंदगी नहीं कटती...,
सिसकियों में कटती है रात उनसे कहना...!

उन्हें पुकारू के ख़ुद ही चली जाऊ उनके  पास...,
नहीं रहे पहले से हालत उनसे कहना...!

अगर वो फिर भी ना लौटे ऐ-ख़ुदा...,
हमारी ये बेबसी की हालत उनसे कहना...!

हर जीत मेरी कर दू उनके नाम उनसे कहना..., 
मान ले मैने हार उनसे कहना...!!!

दीप 

0 comments: