Wednesday, 24 February 2016

जश्न ए रेख़्ता और मैं.....





मेरा पहला सफर रेख्ता के साथ दो साल पहले एक मुशायरे में शिरक़त से हुआ जहाँ मै, मरहूम निदा फ़ाज़ली जी  सुनने  गयी थी !

लिखती तो मैं पहले भी पर उस दिन के बाद से उर्दू से मेरा प्यार और बढ़ गया, और जब इस साल जश्न -ए -रेख़्ता का ऐलान हुआ,तो दिल ने जैसे ठान लिया किसी तरह भी इस का हिस्सा बनाना ही है !



मेरी इस ख्वाहिश को ख़ुदा ने भी मंज़ूर किया और मुझे volunteer के तौर पर जश्न- ए -रेख़्ता का हिस्सा होने का मौका मिला !

जब रेख़्ता की तरफ से volunteers के लिए requirement का ऐलान हुआ, जिसे देखते ही मैंने अपना नामांकन भेजा रेख्ता टीम की coordinator -Taruna को, नामांकन भेजने के 2-3 दिन के बाद ही रेख्ता की तरफ से interview के लिए कॉल आया जहाँ पर मिलना हुआ Priyanka Ma'am से  मिलना हुआ, उनसे बात कर के लगा ही नहीं जैसे पहली बार मिल रही हूँ !

 फिर शरू हुआ final confirmation का इंतज़ार और मेरा बार बार Taruna को कॉल कर के परेशान करने का सिलसिला और फिर 9 फरवरी की शाम जब मुझे रेख़्ता की तरफ से ईमेल मिला तो लगा जैसे मन माँगी मुराद मिल गई !

 ईमेल के  मुताबिक़  मुझे registration lead की जिमेदारी दी गई थी ! 12 फरवरी दोपहर 3 बजे जब में IGNCA पहुँची तो लगा शायद बुहत जल्दी पहुंच गई हूँ, क्युकी अभी तो सब व्यवस्थाये ही चल रही थी !

 पर फिर कुछ ही वक़्त में सभी volunteers को रेख्ता की तरफ से जिम्मेदारी मिल गई, और हम सभी volunteers आपस में दोस्त भी बन गए, मैने  और Jubi ने एक टीम बना ली और साथ साथ काम बाँट लिया !

 शाम के 6 बजते बजते हलचल और तेज हो गई और फिर मेरी ही आँखों से सिर्फ 10 फुट की दुरी पर Javed Akhtar sahab और Shabana Azami जी आई ! उनके आने के कुछ देर बाद शरू हुआ जश्न जिसमे Javed Akhtar sahab और Shabana Azami जी ने Kaifi aur mei से Kaifi Azami जी के जीवन के कुछ यादगार लम्हे दोहराए !

 दूसरे और फिर तीसरे  दिन की शरुआत भी कुछ इसी तरह हुई, जब Gulzar sahab, Kawaljit ji,Richa Anirudh ji , Aanmika ji, Imtiyaz Ali ji, Rajesh Reddy ji,Rafaqat Ali Khan sahab, Sania Saeed, Sabri brothers, Tigmanshu Dhulia  और भी ना  जाने कितने ही जाने मानी, अज़ीम हस्तियाँ नज़रो के सामने थी और चल रहा था उनका कभी ना खत्म होने वाला जादू !

 तीसरे दिन की शाम होते होते इस जादू से मैं और मेरा वज़ूद पूरी तरह सराबोर था, इस दौरान कुछ जाने पहचाने दोस्त और चेहरे भी मिले  जैसे – Rana Safvi ma’am, Ashish Sharma, Ashish Jhangra, Ishaan, Shachhi, Rakhi, Priyanka Dey, Atif Khan, Sanjay Tiwari, Vipin Vishal, Mariam Karim-Ahlawat ma'am, Sumit Sehgal, Udita Garg, Yaseen Anwar, Promilla Qazi ji, Parul Rastogi, Indrajit Ghosal, Tarranum urf  Tiara Zen से मुलाकात हुई !

  इन  तीन दिनों में ना जाने कितने हज़ारो लोग जश्न ए रेख्ता में शामिल होने आये और जश्न में होने वाले सभी  कार्यकमों का आनंद लिया, ग़ज़ल गायकी हो या बैत-बाज़ी, क़व्वाली हो या चर्चा ना जाने कितने ही दिल को लुभाने और आनंदित करने वाले कार्यकम !

 और फिर वक़्त आया अलविदा कहने का, इस दौरान team रेख़्ता के Taruna, Parwaz Sir , Rekha , Haider Sir, Priyanka ma'am aur Sanjiv Saraf Sir के साथ एक अनकहा रिश्ता सा बन गया, दिल से दुआ है ये रिश्ता वक़्त के साथ और मजबूत हो !

 रेख्ता team को जश्न ए रेख़्ता 2016 के लिए बहुत बहुत मुबारकबाद, दुआ है रेख्ता ऐसे ही जश्न और करता रहे !


 जश्न ए रेख़्ता के जश्न की कुछ झलकियाँ



 





 


0 comments: