Thursday, 14 February 2013

...तन्हाई...

...तन्हाई...




कट रहा था मेरी ज़िन्दगी का यह सफर तनहा..

इधर हम तनहा उधर तुम थे तनहा...

तन्हाई के बबासी हमे एक दूजे के करीब लेई..

आंसू पोंछ वादा किया होगे कभी न हम अब तनहा ...

अब तो रहना है तेरे आगोश में..

फिर न तुम तनहा न हम तनहा...


..दीप...

0 comments: